Thursday, 26 September 2013

वेदना





मन में आह उपजाती,वेदना का कहर
अविरल उच्छवासों में
समेट कर छुपाती हूं।

अटकती सांसें
आत्मा को चीरकर,
आंसुओं के दामन में 
लुढ़क जाती हैं।

पीड़ा की कठोरता
 मुझमें  टूटकर तब,
भावनाओं को लिये 
आंखों में पिघल जाती है।

उलझनों की लहरों को
जीवन के आह्लादों पर,
ठोकरें मारने से 
कहां रोक पाती हूं। 

19 comments:

  1. भावपूर्ण रचना।

    सादर

    ReplyDelete
  2. कल 12/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद आपको। मेरी प्रस्तुति को नयी पुराणी हलचल पर जगह देने के लिए।
    सादर।

    ReplyDelete
  4. अच्छी लगी कविता.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद् निहार जी।

      Delete
  5. Beautiful and heart touching :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद् व्यास जी।

      Delete
  6. उलझनों की लहरों को
    जीवन के आह्लादों पर,
    ठोकरें मारने से
    कहां रोक पाती हूं।
    ...वाह...बहुत प्रभावी रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको बहुत बहुत धन्यवाद्।
      सादर।

      Delete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही उम्दा भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको सादर धन्यवाद्

      Delete
  9. एक बढ़कर एक सुन्दर रचनाये मन खुश हो गया जी
    कभी फुर्सत मिले तो हमारी देहलीज़ पर भी आये

    संजय भास्कर
    शब्दों की मुस्कराहट
    http://sanjaybhaskar.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies

    1. सादर आभार आपका।

      Delete
  10. सुन्दर भावानुभूति!

    ReplyDelete