Thursday, 25 September 2014

ऐ मेरी मोहब्बत



मेरी सांसें मेरी धड़कन तू मौसम की रवानी है
रगों में इश्क तेरा है, तू ही अब जिंदगानी है।

ये उजली-सी सुबह तू है, तू ही अब शाम है मेरी
ये तारे, चांद, ये ऋतुएं, तेरी ही बस कहानी हैं

जीवन की नदी में एक नाजुक कंकड़ी-सी ये
मोहब्बत, मेरे ख्वाबों मेरी यादों से पुरानी है।

मेरी सांसों का मकसद तू, मेरे जीवन का हासिल तू
तेरी सूरत, तेरी आंखें खुदा की मेहरबानी हैं।

तुझे एक पल भी जो भूलूं, लगे जिंदा नहीं हूं मैं
तेरा हंसता हुआ चेहरा मेरी आंखों का पानी है।

भले मजबूर हूं कितनी, मैं तुझसे दूर हूं कितनी
तेरी सांसें मेरी धड़कन, तेरी ही मैं दीवानी हूं।

मेरी शोहरत है तू, चाहत है तू, अभिमान तू ही है
मैं जिंदा हूं तो तू ही मेरे जीने की निशानी है।

तेरी हसरत करूं न तो करूं क्या ये बता दे तू
तेरे दम से मोहब्बत है, तेरे दम से जवानी है।

64 comments:

  1. मोहब्बत के अहसास को महसूस करने के अल्फ़ाज़ों में एक नयी ताज़गी सी आ गयी है
    उम्दा नज़्म

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ अनुषा शायद सच कह रही हो

      Delete
  2. वाह ! बहुत खूबसूरत गज़ल ! बहुत खूब लिखा है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  3. बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...सभी अशआर उम्दा...

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. धन्यवाद ! आशीष अवस्थी जी

      Delete
  5. मेरी सांसों का मकसद तू, मेरे जीवन का हासिल तू
    तेरी सूरत, तेरी आंखें खुदा की मेहरबानी हैं...
    मुहब्बत के खूबसूरत लम्हों को संजो कर लिखी ग़ज़ल ... उम्दा अशआर ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  6. कल 28/सितंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  7. प्रेम का भाव होता ही ऐसा है। बहुत भावपूर्ण रचना। स्वयं शून्य

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजीव उपाध्याय जी

      Delete
  8. Prem ho jaaye to fir sab rang sunder lagte hain.... Bahut khubsurat rachna ahsaas bhare shabdo ka sanyojan .... !!

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरत भाव, उम्दा रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  10. बुत सुन्दर भाव सुन्दर शब्दों का जामा !
    नवरात्रों की हार्दीक शुभकामनाएं !
    शुम्भ निशुम्भ बध - भाग ५
    शुम्भ निशुम्भ बध -भाग ४

    ReplyDelete
  11. बेशक बहुत सुन्दर लिखा और सचित्र रचना ने उसको और खूबसूरत बना दिया है.

    ReplyDelete
  12. सुन्दर प्रेमभाव.

    ReplyDelete
  13. मोहब्बत को बखूबी बयान किया है आपने ,
    मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji bilkul ayege apke blog par..
      thank u so much

      Delete
    2. मेरे ब्लॉग पर पधारने और मेरी रचना को सराहने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  14. khoobsurat gazal ....shubhkamnaye..

    visit here plz and join my blog
    anandkriti007.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks a lot anand ji.. definately i will visit your blog

      Delete
  15. आपने बहुत सुन्दर लिखा
    इसके साथ ही हर टिप्पणीकार धन्यवाद देना हमेँ बहुत अच्छा लगा जो हमेँ यहाँ तक खिँच लाया ।
    धन्यवाद
    RSD Web mideya पर आपका स्वागत हैँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  16. आपने बहुत सुन्दर लिखा
    इसके साथ ही हर टिप्पणीकार धन्यवाद देना हमेँ बहुत अच्छा लगा जो हमेँ यहाँ तक खिँच लाया ।
    धन्यवाद
    RSD Web mideya पर आपका स्वागत हैँ।

    ReplyDelete
  17. आपका ब्लॉंग यहाँ पर हैँ।
    http://rsdiwraya.blogspot.com/2014/09/blog-post_4.html जरूर पधारेँ।

    ReplyDelete
  18. आपकी रचना काफी अच्छी लगी।मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  19. बढ़िया रचना , मंगलकामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  20. माशा अल्लाह,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आसिफ जी

      Delete
  21. एक नए अंदाज एवं शैली में प्रस्तुत आपकी पोस्ट अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी जरुर. आभारी हु

      Delete
  22. सुन्दर प्रस्तुति...........दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें! मेरी नयी रचना के लिए मेरे ब्लॉग "http://prabhatshare.blogspot.in/2014/10/blog-post_22.html" पर सादर आमंत्रित है!

    ReplyDelete
  23. अनुपम प्रस्तुति......आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
  24. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति… दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  25. हर शेर मोहब्बत में डूबी हुई
    सुन्दर गजल !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  26. क्या बात ह !!!!
    बहुत ही अच्छा ।
    पर नहीं लगता की इस दुनिया में अब भी इतना समर्पित होने वाले का कोई वजूद होगा ।
    http://dharmraj043.blogspot.com/2015/01/blog-post.html

    ReplyDelete
  27. खूबसूरत अशआर।

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्‍छी रचना। प्रस्‍तुत करने के लिए धन्‍यवाद।। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  29. भावपूर्ण एव हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति।मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  30. एक-एक मिसरा बेहतरीन।बहुत खूब।

    ReplyDelete
  31. एक-एक मिसरा बेहतरीन।बहुत खूब।

    ReplyDelete
  32. एक-एक मिसरा बेहतरीन।बहुत खूब।

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन , लिखा है जी

    ReplyDelete
  34. सुन्दर शब्द रचना

    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete