Monday, 14 July 2014

स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो



स्वाहा तुम्हीं स्वधा तुम हो
तुम कल्याणी सृष्टि की
बन मोहिनी जग को रचती 
स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो

एक बदन एक ही जीवन 
पर इतने रूपों में जीवित हो
सबसे पावन प्रेम तुम्हारा
स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो

अन्नपूर्णा इस जग ही 
तुम ही क्षुधा मिटाती हो
प्रेम भरा हर रूप तुम्हारा
स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो

पावन गंगा सी निर्मल हो
जग को सिंचित, पोषित करती
तुम न हो तो जग न होगा
स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो

22 comments:

  1. तुम न हो तो जग न होगा
    स्त्री तुम सचमुच अद्भुत हो
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद् अनुषा।

      Delete
  2. Replies
    1. प्रतिक्रिया के लिए आभार राजीव जी।

      Delete
  3. बहुत खूब स्मिता जी


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यश जी।
      सादर।

      Delete
  4. Stri to sach me adbhut hai.....aapne adbhut hone ki sunder prastuti ki hai Smita ji....bahut lajawaab.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद् परी जी।

      Delete
  5. स्त्री हर रूप में शक्ति है ... माननीय है ...
    नारी को लेकर लिखी लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार दिगंबर जी।
      सादर

      Delete
  6. कल 18/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. विनम्र आभार यश जी

      Delete
  7. अछोर ममत्व और स्नेह की डोर
    होती है मां.. यानी नारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कहा आपने।
      आभार

      Delete
  8. अद्भुत रचना स्मिता,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरमान जी

      Delete
  9. Ek baar fir padhi aapki rachna khubsurat tareeke se prastut kiya aapne adbhutikaran....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद परी जी

      Delete
  10. प्रेरक और खुबसूरत रचना.....

    ReplyDelete
  11. नारी का महत्व बताती सुंदर रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ

      Delete